Motivational Story #5: जब Karoly Takacs ने उलटे हाथ से ओलंपिक स्वर्ण जीता

Here you can check Motivational Story #5 in Hindi and get Motivated in life.

Karoly Takacs Story - 

यहां आप मोटिवेशनल स्टोरी #5 पढ़ सकते हैं और जीवन में मोटिवेट हो सकते हैं।

प्रेरक कहानी #5 : करोली टेकक्स की ओलिंपिक गोल्ड जितने की कहानी 

जब Karoly Takacs ने अपने अकेले उलटे हाथ से ओलंपिक स्वर्ण जीता
यह Karoly Takacs के जीवन की सच्ची कहानी है | 
Karoly Takacs एक प्रसिद्ध पिस्टल शूटर थे और हंगरी की सेना में कार्यरत थे। आँखों में उम्मीद लिए और सपनों को संजोए इस निशानेबाज ने शूटिंग का अथक अभ्यास किया। लेकिन 1938 में, उनके सेना प्रशिक्षण के दौरान, एक दोषपूर्ण हथगोला उनके हाथ में फट गया जिसके कारण उनका मुख्य हाथ (दाहिना) जिससे वे पिस्तौल चलाया करते थे, धमाके से उड़ गया । विस्फोट ने उसे नहीं मारा, लेकिन उसके दाहिने हाथ को इस हद तक घायल कर दिया कि वह इसे फिर कभी इस्तेमाल नहीं कर सके।

Takacs को अस्पताल में एक महीना बिताना पड़ा | उनका ओलिंपिक में स्वर्ण जीतने का सपना भी तबाह हो गया।

अस्पताल छोड़ने के एक महीने बाद, उन्होंने बहुत समय अकेले बिताया। उनके पास दो विकल्प थे कि या तो वे परिस्थितियों से हार मान ले या फिर दुबारा दूसरे हाथ से प्रयास करें | 

लेकिन उन्होंने सोचा, “मैं उस दाहिने हाथ की चिंता क्यों करूं जो मेरे पास नहीं है। मुझे ये देखना है कि मैं अपने बाएं हाथ से क्या कर सकता हूं।" बस इतना ही था। उन्होंने एक हारे हुए आदमी की जगह एक योद्धा बनने की ठानी | 
टेकक्स ने हार नहीं मानी और अपने दूसरे अकेले हाथ (बायां हाथ) से पिस्तौल शूटिंग का अभ्यास करने लगे | 

1939 के वसंत में, हंगेरियन नेशनल पिस्टल चैम्पियनशिप हुई। इस चैम्पियनशिप में कई निशानेबाज आए हुए थे और  कैरोली टाकाक्स भी जा पहुंचे | जब अन्य निशानेबाजों ने देखा कि कैरोली टाकाक्स आ चुके हैं, तो उन्होंने उन्हें उनके सांत्वना दी और कहा कि वे उन्हें इवेंट में देख कर खुश हैं।

सभी को आश्चर्यचकित करते हुए, टेकक्स ने कहा कि वह वहां चैम्पियनशिप देखने के लिए नहीं बल्कि इसमें भाग लेने के लिए आए हैं।

जब चैम्पियनशिप शुरू हुई, तो सभी को उम्मीद थी कि टेकक्स अपने दाहिने हाथ से ट्रिगर खींचने का एक कमजोर प्रयास करेगा ताकि वह फिर से शूटिंग के लिए अपनी भावनात्मक प्यास बुझा सके।

लेकिन जब टेकक्स की बारी आई तो उन्होंने अपने बाएं हाथ से पिस्तौल उठा ली। उन्होंने अपने गैर-प्रमुख हाथ (बायां हाथ) से कई गोली चलाई जिसने दर्शकों को आश्चर्यचकित कर दिया। उनका हर शॉट बुल्सआई (सटीक निशाने पर) पर लगा और Takacs आयोजन के विजेता के रूप में सामने आए।

लेकिन उनका ओलिंपिक गोल्ड जीतने का सपना फिर टूट गया क्योंकि ओलंपिक समिति ने 1940 के ओलंपिक को द्वितीय विश्व युद्ध के कारण रद्द कर दिया था। Takacs निराश नहीं हुए और अगले ओलिंपिक के लिए अभ्यास जारी रखा। 1944 में अपने अधूरे सपने को पूरा करने की उम्मीद में उन्होंने चार साल तक इंतजार किया।

दुर्भाग्य से, 1944 के ओलंपिक को भी जारी विश्व युद्ध के कारण रद्द करना पड़ा। लेकिन करोली टेकक्स ऐसा आदमी नहीं था जो हार मान जाए | 

1948 तक, Takacs 38 वर्ष के हो चुके थे। उसी वर्ष लंदन में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में, उन्हें ओलिंपिक में जीतने के लिए पसंदीदा नहीं माना जाता था।

ओलिंपिक से पहले, मौजूदा विश्व चैंपियन ने टेकक्स से पूछा कि वह वहां किस लिए आया था। Takacs ने कहा कि वह वहाँ सीखने के लिए आया है। ताकाक ने न केवल उस ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीता, बल्कि रैपिड-फायर पिस्टल स्पर्धा में विश्व रिकॉर्ड भी बनाया।

इतनी कड़ी मेहनत और प्रतीक्षा के बाद आखिर उसकी वो क्षण आ गया था जिसका उन्हें वर्षों से इंतजार था कि वो ओलिंपिक में गोल्ड मैडल जीतें | 

इसके बाद Takacs ने 1952 के ओलंपिक में भी इसी स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था। उनके अथक प्रयास ने उन्हें अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की ओलंपिक नायकों की सूची में स्थान दिलाया।

Karoly Takacs ने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी और दुनिया के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बने | 

कहानी की शिक्षा:
चाहे कितनी भी विषम से विषम परिस्थिति आये पर कभी हार नहीं माननी चाहिए | लगातार सही दिशा में प्रयास करते रहें | आप एक न एक दिन अवश्य सफल होंगे | 


Motivational Story in Hindi #1: जिद्दी बन्दर की कहानी 

Motivational Story in Hindi #2: आलस्य से जीवन में कुछ हासिल नहीं होता  

Motivational Story #3: शिकायत करने में अपना समय बर्बाद न करें 

Motivational Story #4: The Hope Experiment - जीवन में आशा का महत्व

Motivational Story #5: जब Karoly Takacs ने उलटे हाथ से ओलंपिक स्वर्ण जीता